Followers

Tuesday, April 24, 2012

हनुमान लीला भाग-4

                           महाबीर बिनवउँ हनुमाना, राम जासु जस आप बखाना  

हनुमान जी का चरित्र अति सुन्दर,निर्विवाद और शिक्षाप्रद है, उन्ही के चरित्र की प्रधानता श्रीरामचरितमानस के सुन्दरकाण्ड में सर्वत्र हुई है. सुन्दरकाण्ड का पाठ अधिकतर मानस प्रेमी घर घर में करते-कराते हैं.परन्तु ,सुन्दरकाण्ड के मर्म का चिंतन न कर केवल उसका पाठ  यांत्रिक रूप से कर लेने से हमें  वास्तविक  उपलब्धि नहीं हो पाती है जो कि होनी चाहिये.

रामायण  केवल कथा ही नहीं है.इसमें कर्म रुपी यमुना,भक्ति रुपी गंगा और तत्व दर्शन रुपी सरस्वती का अदभुत और अनुपम संगम विराजमान  है. आईये इस् पोस्ट में भी हम हनुमान लीला का  रसपान करने हेतु  श्रीरामचरितमानस के सुन्दरकाण्ड का तात्विक अन्वेषण करने का कुछ प्रयत्न करते हैं.

 भगवान की शरणागति को प्राप्त हो जाना  जीवन की सर्वोत्तम और  सुन्दर उपलब्धि है.  हनुमान की शरणागति  सर्वत्र सुंदरता का  दर्शन करानेवाली है,जो कि सुन्दरकाण्ड का मुख्य आधार है. इस् काण्ड का नामकरण  इसीलिए हनुमानकाण्ड  न किया जाकर सुन्दरकाण्ड किया गया  है.
सुन्दरकाण्ड में तीन प्रकार की शरणागति का विषद वर्णन  हुआ  है

(१) हनुमान की शरणागति 
(२) विभीषण की शरणागति 
(३) समुन्द्र की शरणागति.

सुन्दरकाण्ड का मर्म समझने हेतु शरणागति को समझना अति आवश्यक है.यदि ध्यान से देखा जाए तो शरणागति ही हमारे शास्त्रों का वास्तविक लक्ष्य है. श्रीमद्भगवद्गीता में  अपना उपदेश पूरा करने के पश्चात भगवान श्री कृष्ण  अर्जुन को निम्न उपदेश देते हैं .
                   
                   सर्वधर्मान्परित्यज्य  मामेकं  शरणम  व्रज 
                   अहं त्वा  सर्वपापेभ्यो मोक्षयिष्यामि मा शुच:

सम्पूर्ण धर्मों का आश्रय छोड़कर तू केवल मेरी शरण में आ जा.मैं तुझे सम्पूर्ण पापों से मुक्त कर दूंगा.

यह  श्लोक  शरणागति का  गहन रहस्य प्रकट करता है.सम्पूर्ण धर्मों के त्याग का अर्थ यहाँ सम्पूर्ण धर्मों के आश्रय के त्याग से है.अपने सभी धर्मों को निष्ठापूर्वकनिभाएं यथा अपने शरीर पालन  करने का धर्म,माता पिता के प्रति संतान होने का धर्म,संतान के प्रति माता-पिता होने का धर्म,भ्राता धर्म,मित्र धर्म, देश और  लोक के प्रति देश धर्म,लोक धर्म,  आदि आदि,परन्तु, सभी धर्मों का आश्रय केवल परमात्मा यानि सत्-चित-आनन्द को पाना   हो तो ही  जीवन में भटकाव दूर हो जीव का उद्धार हो सकता है. परमात्मा की शरण में आने से जीव  निर्भय और पापरहित  होकर  सत्-चित -आनन्द में रमण करने का अधिकारी हो जाता है. परन्तु,यदि आश्रय सत्-चित-आनन्द का न होकर अन्यत्र हो तो जीवन में ठहराव नहीं  आने पाता  है, भटकन बनी रहती है और अंततः ठोकरे ही लगती हैं  .

अध्यात्म में समुन्द्र देह अभिमान का प्रतीक है.यानि हम अजर,अमर ,नित्य आनंदस्वरूप आत्मा होते हुए भी 
स्वयं को देह माने रहते है. विनयपत्रिका में  गोस्वामी तुलसीदास जी ने कहा है  'कुणप -अभिमान  सागर 
भयंकर घोर', यानि देह का अभिमान घोर  और भयंकर सागर है.हम सब में जो  थोड़ी थोड़ी साधना करने वाले हैं वे सब जानते हैं कि भरसक प्रयत्न करने के बाबजूद भी हम देहाभिमान के किनारे ही खड़े रह जाते हैं.
जैसे कि सीता जी की  खोज करते हुए सभी वानर समुन्द्र के किनारे खड़े हुए समुन्द्र को लाँघने में स्वयं को असमर्थ पाते हैं.परन्तु,हनुमानजी  जो  केवल  रामजी के ही  शरणागत हैं,जपयज्ञ और प्राणायाम स्वरुप हैं,इस देहाभिमान रुपी समुन्द्र को राम काज करने हेतु  लाँघने में समर्थ होते हैं.सीता की खोज  यानि परमात्मा को प्राप्त करने की परम चाहत की खोज ,.जो अहंकार रुपी रावण की नगरी में कैद हुई है, ही 'राम काज' है.शरणागति और रामकाज की बात  सुन्दरकाण्ड में हनुमान जी के मुख से  'बार बार रघुबीर संभारी','राम काज किन्हें बिनु मोहि कहाँ बिश्राम' आदि  वचनों द्वारा सुन्दर प्रकार से वर्णित हुई  है.

जब हनुमान जी लंका दहन कर राम जी के पास आये तो राम जी ने उनकी प्रशंसा करते हुए कहा 'प्रति उपकाकरौं का तोरा, सन्मुख होइ  न सकत मन मोरा' यानि हनुमान जी, मैं आपका कोई प्रति उपकार करने लायक  नहीं हूँ ,यहाँ तक कि मेरा मन भी तुम्हारी ओर नहीं देख पा रहा है,तुम्हारा सामना नहीं कर पा रहा है.
यह  निरभिमानी के लिए अति कठिन परीक्षा है.परन्तु,राम जी के इन वचनों को सुनकर भी निरभिमानी हनुमान प्रेमाकुल हो उनके चरणों में  पड़कर त्राहि त्राहि करने लगे.'चरण परेउ प्रेमाकुल त्राहि त्राहि भगवंत', मैं आपकी शरण में हूँ,मुझे बहुत जन्म हो गए हैं गिरते पड़ते,ऐसी बातें कहकर मुझे  अपनी माया में न उलझाईये,मुझे बचा लीजिए,बचा लीजिए. अपने किये हुए काज का किंचितमात्र भी अभिमान नहीं है हनुमान जी में. हनुमान जी की शरणागति सम्पूर्ण और अनुपम  शरणागति है.

जब सीता जी ने 'अजर अमर गुननिधि सुत होहू, करहूँ बहुत रघुनायक छोहू' का आशीर्वाद हनुमान जी को दिया तो  भी वे राम जी के निर्भर प्रेम में मगन हो गए. '    'करहुँ कृपा प्रभु अस सुनि काना,निर्भर प्रेम मगन हनुमाना'. इसके बाद ही शरीर धर्म के पालन हेतु उन्होंने सीता जी से आज्ञा माँगी 'सुनहु मातु मोहि अतिशय भूखा,लागि देख सुन्दर फल रूखा'.राम काज के लिए उन्होंने मान अपमान की भी कोई परवाह नहीं की.मेघनाथ के ब्रह्मास्त्र से जानबूझ कर बंधकर,राक्षसों की लात घूंसे खाते हुए घसीट कर ले जाते  हुए भी   रावण की सभा में वे गए,रावण को समझाने की कोशिश की ,वह नहीं माना तो लंका दहन किया.'कौतुक कहँ आये पुरबासी,मारहिं चरन करहिं बहु हांसी,बाजहिं ढोल देहीं सब तारी ,नगर फेरि पुनि पूंछ प्रजारी'.हनुमान जी की शरणागति श्रीमद्भगवद्गीता के उपरोक्त  श्लोक को पूर्णतया चरितार्थ करती है.सभी धर्मो का पालन करते हुए भी उनका आश्रय केवल राम जी के शरणागत रहना ही है.

विभीषण जी ऐसे विवेक का प्रतीक हैं जो 'अहंकारी' रावण का छोटा भाई बन उसकी लंका नगरी में रह रहा है. हैं.उनकी शरणागति हनुमान जी की शरणागति से निचले स्तर (lower level)की है.  जो  शुरू में राम जी की  भक्ति   लंका का राज्य प्राप्त करने हेतु  कर रहे थे और अधर्मी रावण की लंका नगरी भ्रात धर्म,देश धर्म आदि  के कारण  छोड़ नहीं पा रहे थे..जैसे कि कोई  व्यक्ति जीवन में भगवान की भक्ति से केवल भौतिक उपलब्धियों को प्राप्त कर  अधर्म पर आधारित सांसारिक धर्मों का ही निर्वाह  करना चाहता  है.परन्तु,हनुमान जी के दर्शन,सत्संग और मार्ग दर्शन से विभीषण की  शरणागति भी अंततः उच्च स्तर (high level) की हो गयी. जब उन्होंने भ्रात धर्म आदि  के मोह से मुक्त हो लंका का त्याग किया और राम जी का साक्षात्कार किया.उन्होंने राम जी के समक्ष स्वीकार  किया भी 'उर कछु प्रथम बासना रही,प्रभु पद प्रीति सरित सो बही'.विभीषण की शरणागति पहले  वासना सहित थी ,जो हनुमान जी की कृपा से वासना रहित हो गयी. यदि  हम  विभीषण जैसी स्थिति में हैं और ईश्वरभक्ति केवल भौतिक सुख सम्पदा पाने के लिए, अधर्म  का और रिश्ते नातों  का गलत प्रकार से पोषण   करने के लिए  कर रहें हैं, तो हनूमंत सत्संग की हमें भी  परम आवश्यकता है.

समुन्द्र वाली शरणागति मजबूरी की डंडे वाली शरणागति है.'बिनय न मानत जलधि  जड ,गए तीनि दिन बीति ,बोले राम सकोप तब भय बिनु होइ न प्रीति'. जो परिस्थिति को नहीं समझता,पाप -पुण्य,भला बुरा नहीं समझता,धर्मों की मर्यादा के बहानों में बंधा रह कर ही  'राम काज' में निमित्त भी नहीं बनना चाहता,उसे जब ठोकरें लगें और डर कर वह प्रभु की शरण में आये तो ऐसी शरणागति निम्नतम स्तर (lowest level) की शरणागति है.यदि जीवन में ऐसी शरणागति भी  हो सके तो इसे  प्रभु की  कृपा ही समझनी चाहिए.

अंत में आप सभी सुधि जनों को मैं अपनी पोस्ट 'वंदे वाणी विनयाकौ' की पोड कास्ट जो कि अर्चना चाओ जी ने अपनी सुमुधुर वाणी में बनाई है को सुनवाना चाहूँगा.सुनने के लिए निम्न पर  क्लिक कीजियेगा

<object height="36" width="470"><param value="http://www.divshare.com/flash/audio_embed?data=YTo2OntzOjU6ImFwaUlkIjtzOjE6IjQiO3M6NjoiZmlsZUlkIjtzOjg6IjE1NzI5MjI0IjtzOjQ6ImNvZGUiO3M6MTI6IjE1NzI5MjI0LTdiMCI7czo2OiJ1c2VySWQiO3M6NzoiMTk2NjgyMyI7czoxMjoiZXh0ZXJuYWxDYWxsIjtpOjE7czo0OiJ0aW1lIjtpOjEzMzA2MjY1OTA7fQ==&autoplay=default" name="movie"></param><param name="allowFullScreen" value="true"></param><param name="allowscriptaccess" value="always"></param><param name="wmode" value="transparent"></param><embed wmode="transparent" height="36" width="470" type="application/x-shockwave-flash" allowscriptaccess="always" allowfullscreen="true" src="http://www.divshare.com/flash/audio_embed?data=YTo2OntzOjU6ImFwaUlkIjtzOjE6IjQiO3M6NjoiZmlsZUlkIjtzOjg6IjE1NzI5MjI0IjtzOjQ6ImNvZGUiO3M6MTI6IjE1NzI5MjI0LTdiMCI7czo2OiJ1c2VySWQiO3M6NzoiMTk2NjgyMyI7czoxMjoiZXh0ZXJuYWxDYWxsIjtpOjE7czo0OiJ0aW1lIjtpOjEzMzA2MjY1OTA7fQ==&autoplay=default"></embed></object>


इस पोस्ट को प्रकाशित करने में हुई देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ.
आप सभी को अक्षय तृतीया, श्री परशुराम जयंती की हार्दिक शुभकामनाएँ.




.

105 comments:

  1. आहा, आनंद आ गया राकेश जी, तीनों तरह की शरणागति का इतना सुंदर वर्णन पढ कर । हनुमान जी की शरणागति सर्वोत्तम है और समुद्र की सबसे हलकी । हम तो शरणागत ही नही हैं, सिर्फ अपने कष्ट निवारण के लिये प्रभु को याद करते हैं । इसकी जड में हमारा अहंकार है या आलस्य या निर्धार की कमी.......कुछ तो है ही ।

    ReplyDelete
  2. ...बिना स्वार्थ शरणागत होना ज़्यादा अच्छा है.विभीषण के स्वार्थ को जानकर भी प्रभु ने उन्हें अपनाया.उनकी शरण में जाते ही हर तरह के पाप धुल जाते हैं.
    हनुमानजी से बढ़कर उनके प्रभु के बारे में कौन जानता है ?

    ReplyDelete
  3. क्या बात है ,अध्यात्म चिंतन का कोई सानी नहीं और वह आप जैसे मृदुल व्यक्तित्व से संचरित हो ,क्या कहने / रस-सिक्त करता भक्ति प्रवाह ......

    ReplyDelete
  4. हनुमान की भक्ति और समर्पण समझना अपने आप में परमानन्द है।

    ReplyDelete
  5. सुन्दरकाण्ड के नामकरण के बारे में अपने दो अग्रजों से पिछले दिनों ही सवाल-जवाब हुए थे। और अब इतनी जल्दी यह सुन्दर आलेख पढकर मन प्रसन्न हुआ। इस व्याख्या के लिये आपका हार्दिक आभार राकेश जी! ज्ञानगंगा इसी प्रकार बहती रहे!

    ReplyDelete
  6. आभारी हैं हम आपके ..इतना सुन्दर लेख देने के लिए..

    ReplyDelete
  7. शरणागति के भेद एकदम सरल तरीके से जानने को मिले, निस्संदेह हनुमान जी वाला भाव उत्तम है| इसके अतिरिक्त ' सर्वधर्मान्परित्यज्य मामेकं शरणम व्रज, अहं त्वा सर्वपापेभ्यो मोक्षयिष्यामि मा शुच:' में प्रयुक्त 'धर्म' का सही परिपेक्ष्य में सही अर्थ जाना| आभार इस मंगलमयी प्रस्तुति के लिए|

    ReplyDelete
  8. ्बेहद उम्दा और संग्रहणीय पोस्ट है ………बस शरणागति मे ही तो उसकी प्राप्ति है। जिस दिन हम ये बात समझ जाते हैं उसी दिन से जीवन परिवर्तित हो जाता है………मन , वचन और कर्म से सम्पूर्ण समर्पण ही पूर्ण शरणागति है।

    ReplyDelete
  9. बहुत बहुत आभार आपका.............

    सुंदर लेख.....आनंदित हूँ.

    सादर.
    अनु

    ReplyDelete
  10. हनुमान जी की भक्ति भाव से अति आनंद की प्राप्ति होती है और यहाँ आकर और भी आनंद मिला |

    ReplyDelete
  11. बेहद श्रमसाध्य पोस्ट होती हैं आपकी.
    सुन्दर वर्णन.

    ReplyDelete
  12. परमात्मा की शरण में आने से जीव निर्भय और पापरहित होकर सत्-चित -आनन्द में रमण करने का अधिकारी हो जाता है. परन्तु,यदि आश्रय सत्-चित-आनन्द का न होकर अन्यत्र हो तो जीवन में ठहराव नहीं आने पाता है, भटकन बनी रहती है और अंततः ठोकरे ही लगती हैं .

    बहुत सुंदर ! कितने सरल शब्दों में आपने अध्यात्म का सार बता दिया है. हनुमान की शरणागति सर्वोच्च है ही,आभार

    ReplyDelete
  13. बहुत आतुरता से प्रतीक्षा थी आपकी पोस्ट की ... सम्पूर्ण शान्ति और सुख का आभास हो जाता है पढ़ के ...
    हनुमान जी की लीला है या प्रभू राम की लीला .. कौन लीला कर रहा है समझने के आस नहीं रहती पढते हुवे ...
    शरणागत ... आपने जिस मन्त्र पे इतना बल दिया है और वो मन्त्र साध ले इंसान तो जीवन सफल है ...
    आपका बहुत बहुत आभार इस क्रम को बढाने के लिए ...

    ReplyDelete
  14. बहुत ही उपयोगी और हनुमानजी की उपयोगिता से परिपूर्ण ....कमाल हैं पवन -पुत्र का ..
    'बार बार रघुबीर संभारी','राम काज किन्हें बिनु मोहि कहाँ बिश्राम' ....

    ReplyDelete
  15. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बुधवारीय चर्चा-मंच
    पर है |

    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  16. Bahut sundar, Rakesh Kumarji. Apne kitni saral bhasha main teeno prakar ki sharnagatiyo ka matlab samjhaya hain... Padhkar, man anandit ho gaya. Dhanyavaad is anupam prastuti ke liye, aneko aneko aabhar.

    ReplyDelete
  17. बहुत आभार राकेश जी - आपकी लेखनी से भक्तिरस की मधु बून्दें यूँ ही टपकती रहे - और हम सब उसका लाभ लेते रहे |

    जय श्री राम |

    ReplyDelete
  18. आनंददायक विवरण......
    इसका कुछ अंश भी हम अपने में उतार सकें तो जीवन धन्य समझिए.....!

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  20. शुभकामनायें आपको भी..... मन को आनंदित करते इस विवेचन के लिए आभार ....

    ReplyDelete
  21. bahut hi badhia post
    bahut acchi baate pata chali is post ke dwara
    dhanaywaad
    aapko bhi prashuraam jayanti aur akshay tritya ki badhaai

    ReplyDelete
  22. हनुमन लीला अपरम्पार है...​
    ​​
    ​राकेश जी, आपका स्वास्थ्य अब कैसा है...​
    ​​
    ​जय हिंद..

    ReplyDelete
  23. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ...आभार आपका इस उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति के लिए

    ReplyDelete
  24. Teen levels ki sharnagati (surrender) bahut acche udaharan se ramayan me batlaayi aapne....vastav me jeevan me bhi bahut se steps par hume surrenders dekhne ko mil jaate hai chahe wo verbal, mental ya sirf physical hi ho. Thosa sa online search karte time padha ki Ramayan ko 'Sharnagati shastra' bhi batlaya gaya hai and Saranagathi means absolute self surrender (eg dropadi, prahalad, shabri, Bharat). Yanni Ramayan hume alag alag tareeke ke bhagwaan ke prati sharan me hona sikhata hai - it highlights the concept of Sharanagati. Aur further Bhagwat Geeta ka gyan bhi Arjuna ke sharnagat hone par hi saamne aata hai.

    ReplyDelete
  25. हनुमान की शरणागति सात्विक सोच का ही दूसरा नाम है .
    अधिकांश लोग विभीषण रुपी राजसी सोच के साथ जीते हैं . इसीलिए मंदिर , मस्जिद अदि जाकर ईश्वर/ अल्लाह से अपने लिए मन्नत मांगते हैं .

    आपकी धार्मिक व्याख्या कमाल की है .
    बहुत बढ़िया .

    ReplyDelete
  26. जय हनुमान जी की ।मेरे नए पोस्ट पर आने की कृपा करें । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  27. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ...आभार .....

    ReplyDelete
  28. अध्यात्म में समुन्द्र देह अभिमान का प्रतीक है.यानि हम अजर,अमर ,नित्य आनंदस्वरूप आत्मा होते हुए भी
    स्वयं को देह माने रहते है. विनयपत्रिका में गोस्वामी तुलसीदास जी ने कहा है 'कुणप -अभिमान सागर
    भयंकर घोर', यानि देह का अभिमान घोर और भयंकर सागर है.हम सब में जो थोड़ी थोड़ी साधना करने वाले हैं वे सब जानते हैं कि भरसक प्रयत्न करने के बाबजूद भी हम देहाभिमान के किनारे ही खड़े रह जाते हैं.
    बहुत बढ़िया व्याख्या ,देही अभिमानी बन तू प्राणी देह - अभिमानी मत बन .यही जीवन का सार है अपने को स्थूल शरीर ही न समझ इसमें सूक्ष्म शरीर (चेतन ऊर्जा ,आत्मा )का भी वास है .

    ReplyDelete
  29. वाह सुंदर काण्‍ड की भी अपनी ही महत्‍ता है

    ReplyDelete
  30. बहुत भक्ति मय श्री हनुमान जी और सुन्दर काण्ड की सुन्दर व्याख्या तीन शरणागति का विश्लेषण बहुत आध्यात्मिक अनुभूति होती है आपके ब्लॉग पर आकर ...आभार जय श्री राम जय हनुमान

    ReplyDelete
  31. इस उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति के लिए आभार ,....जय श्री राम जय हनुमान

    MY RESENT POST .....आगे कोई मोड नही ....

    ReplyDelete
  32. प्रभु शरणागत होने में ही जीवन सार है ...उद्धार है ...हनुमान जी जैसा भक्त हो तो प्रभु कृपा मिल ही जायेगी ...
    आनंदित हुआ मन आपका आलेख पढ़कर ...!
    देर से आने के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ ...!!

    ReplyDelete
  33. क्या बात है राकेश भाई २४ तारीख से कुछ नही लिखा इंडिया से बाहर चले गये थे क्या?

    ReplyDelete
  34. चित्त शांत हो जाता है यहाँ आकर.

    ReplyDelete
  35. Enlightening and I heard the audio too...It was good...:)

    ReplyDelete
  36. राकेश जी आपकी बात सही है कि जो ज्ञान और दर्शन व चरित्रों का निरूपण और आदर्श रामायण में मिलता है वह कहीं और नहीं.

    आपकी व्याख्या क्षमता अद्भुत है और इसे वही कर सकता है जो खुद समर्पण भाव में आनन्द पाए या कहे तो शरणागति को जा चूका है प्रभु की.

    आभार अध्यात्म चिंतन के लिये.

    ReplyDelete
  37. बहुत भक्ति मय और सुन्दर .......

    ReplyDelete
  38. आप डूब कर लिखते हैं ...प्रभावशाली संकलन योग्य रचना भाई जी !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  39. जय वीर बजरंग बली की .....
    आभार और शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  40. ये तो आवश्यक है ही कि हम श्री राम के मंगलमय विधान की मंगलमय व्यवस्था के अंदर ही रहें . अपने को उनके चरणों में पूर्णतया समर्पित कर दें .कातर प्रार्थना से ही वासना रहित हुआ जा सकता है .पुनः अद्भुत अध्यात्म चिंतन के लिये आभार .

    ReplyDelete
  41. आप का आलेख एक दूसरे ही लोक में ले जाता है...बहुत भक्तिमय और रोचक प्रस्तुति..आभार

    ReplyDelete
  42. आपने जिस मन्त्र पे इतना बल दिया है और वो मन्त्र साध ले इंसान तो जीवन सफल है ...
    आपका बहुत बहुत आभार इस क्रम को बढाने के लिए ...
    बहुत सुंदर सार्थक प्रस्तुति // //

    MY RECENT POST ....काव्यान्जलि ....:ऐसे रात गुजारी हमने.....

    ReplyDelete
  43. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    आपकी प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर लगाई गई है!
    चर्चा मंच सजा दिया, देख लीजिए आप।
    टिप्पणियों से किसी को, देना मत सन्ताप।।
    मित्रभाव से सभी को, देना सही सुझाव।
    उद्गारों के साथ में, अंकित करना भाव।।

    ReplyDelete
  44. इस अलौकिक विवेचना ने आत्मा तृप्त कर दिया ...

    ह्रदय से आभार आपका...

    ReplyDelete
  45. राकेश जी सुन्दर काण्ड की बहुत सुन्दर व्याख्या देखने मिली आज मन प्रफुल्लित हो गया... बहुत दिनों बाद आपके ब्लॉग पर आना हुआ इसके लिए क्षमा प्रार्थी हूँ ... आपका ह्रदय से आभार...

    ReplyDelete
  46. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  47. संकटमोचन की बात ही अलग है

    ReplyDelete
  48. बहुत बडिया प्रस्तुती धन्यवाद

    ReplyDelete
  49. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  50. sir---aaj to aapne sundar -kand ki puri vykhya bahut saral shabdo me ki hai.bbahut bahut hi achha laga padh kar.kyunki sundar kand ka paath main bhi mangalvaar vshanivaar ko karti hun.
    han!main khud hi aapse xhama chahti hunkyonki main bhi idhar kaffi dino par hi blog par aati hun is liye aapke blog par nahi aapaati hun.
    punah xhama prarthana ke saath
    mujhe to lagta tha ki aap sabhi meri itni lambi anupasthiti me mujhe bhul gaye honge par bahut hi achha laga ki aap sabhi ka sneh mere saath juda hua hai
    poonam

    ReplyDelete
  51. तीनों तरह की शरणागति पूरी तरह से समझ में आ गई...अब सुंदरकाण्ड का मर्म समझने में आसानी हो रही है...इस भक्तिमय पोस्ट के लिए सादर आभार !!!

    ReplyDelete
  52. संग्रहणीय पोस्ट..

    ReplyDelete
  53. इस ज्ञान गंगा के हम भी साक्षी हुए .......धन्य हुए !

    ReplyDelete
  54. इस ज्ञान गंगा के हम भी साक्षी हुए .......धन्य हुए !

    ReplyDelete
  55. बहुत अच्छा लगा पढकर ! हनुमान जी की जय । मेरे नए पोस्ट पर आपकी प्रतीक्षा रहेगी । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  56. लाजवाब प्रस्तुति । मेरे पोस्ट पर आपका इंचजार रहेगा । धन्यवाद । ।

    ReplyDelete
  57. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ...आभार..

    ReplyDelete
  58. भगवान की शरणागति को प्राप्त हो जाना जीवन की सर्वोत्तम और सुन्दर उपलब्धि है. हनुमान की शरणागति सर्वत्र सुंदरता का दर्शन करानेवाली है,जो कि सुन्दरकाण्ड का मुख्य आधार है....bahut hi gyanpurn nd ruchivardhak jankari dhanyavad nd aabhar rakesh jee....

    ReplyDelete
  59. बहुत लाजबाब संग्रहणीय प्रस्तुति,....

    WELCOME TO MY RECENT POST....काव्यान्जलि ...: कभी कभी.....

    ReplyDelete
  60. बहुत सुन्दर जानकारी और वर्णन .

    ReplyDelete
  61. सुन्दर कांड का महत्व समझ आया. विभीषण की भूमिका रावण वध के लिए तो आवश्यक थी, और इसी लिए कहा भी गया है घर का भेदी लंका ढाहे. परन्तु बाद में विभीषण का आतंरिक परिवर्तन जो आपने बताया वो विचारनिए है. बहुत अच्छी समीक्षा प्रस्तुत की है आपने, बधाई.

    ReplyDelete
  62. शरणागति की विषद व्याख्या...!
    शरणागतवत्सल प्रभु और भक्तों की जय!
    यह सत्संग सदैव चलता रहे!

    ReplyDelete
  63. बहुत बेहतरीन व प्रभावपूर्ण रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  64. शरणागति का बहुत ही सूक्ष्म विवेचन किया है आपने..... और साथ में ये भी बताया है की परमात्मा की प्राप्ति हेतु अपने अहं भाव को मिटाना परम आवश्यक है। वस्तुतः यही शाश्वत सत्य है...
    प्रेम गली अति साँकरी ,ता में दो न समाहि
    .....मनोहारी है ये लेख
    सर, मैने हाल ही में ब्लोग जगत में पदार्पण किया है। अतः आपसे अनुरोध है कि मेरे ब्लोग पर पधार कर मेरा मार्गदर्शन करें।

    ReplyDelete
  65. निर्मल औ निःस्व भक्ति का नाम है -हनुमान !

    ReplyDelete
  66. " परमात्मा की शरण में आने से जीव निर्भय और पापरहित होकर सत्-चित -आनन्द में रमण करने का अधिकारी हो जाता है.!' गुरु जी प्रणाम ! बहुत ही सुन्दर और सुयोग्य प्रस्तुति !लेट के लिए क्षमाप्रार्थी ! ग्रीष्मकाल छुट्टी जो है ! मेरे ब्लॉग पर भी पधारे और अपने अनुभव से अवगत कराएँ !

    ReplyDelete
  67. हनुमानजी से बढ़कर उनके प्रभु के बारे में कौन जानता है ? नए पोस्ट पर इंतजार रहेगा ।

    ReplyDelete
  68. बहुत प्यारी पोस्ट है आपकी... देर से आना हुवा ...पर इतनी देर भी नहीं जितनी देर में मैं जवाब दे रही हूँ.... समयाभाव की वजह से पूरी पोस्ट टुकड़ों टुकड़ों में पढ़ी... आज मैंने इस पोस्ट को फिर से पूरी तरह से पढ़ा ..मन आनंदित हो गया .... शरणागति को बखूबी आपने अलग अलग पादानो में रख कर उनको दोहों सहित समझाया है ... उदहारण भी अच्छे लगे... काश की हम हनुमान जी की तरह शरणागति को प्राप्त हों ... आपका आभार ... आपकी पोस्ट पर आना और उसे समझना हमें अच्छा लगता है... भले ही विलम्ब हो .. शुभदिवस

    ReplyDelete
  69. मेरी टिपण्णी यहाँ पर नहीं दिखाई दे रही है... राकेश जी क्या आपको मेरी कल की गयी टिपण्णी मिली...सादर

    ReplyDelete
  70. Happy to read you :)
    Watched your discussion on blogging on ITV Gold. It was great listening you and Saru! :)

    Thank you so much for encouraging me with your comments :)

    My best wishes to you...
    Happy Blogging

    ReplyDelete
  71. भगवान की शरणागति को प्राप्त हो जाना जीवन की सर्वोत्तम और सुन्दर उपलब्धि है.

    bahut hi achha likha hai, aapke blog mein aakar hriday saral anand se bhar uthta hai.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  72. भगवान की शरणागति को प्राप्त हो जाना जीवन की सर्वोत्तम और सुन्दर उपलब्धि है.

    bahut hi achha likha hai, aapke blog mein aakar hriday saral anand se bhar uthta hai.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  73. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    हैल्थ इज वैल्थ
    पर पधारेँ।

    ReplyDelete
  74. राकेश जी, आपको कोटि कोटि धन्यवाद... इस तरह के विषय पर लिखने के लिए...

    ReplyDelete
  75. hardik dhanyvaad ---sir
    bahut hi achha laga jo aap mere blog par aaye
    poonam

    ReplyDelete
  76. राकेश जी , आपके ब्लॉग को पढाने का आनंद ही कुछ और है...कुछ देर के लिए सांसारिकता छोड़ कर मन राममय होगया... बहुत ही सुन्दर भाव!

    ReplyDelete
  77. जय बजरंग बलि ......... बहुत दिन के बाद फिर आपके चरण में आया हूँ
    कृपा बनाये रखियेगा

    ----------
    राकेश भाई शिकायत है आपसे , आप नहीं आते छोटे भाई के ब्लॉग पे .मेरे ब्लॉग पे आएगा
    आज भारत बंद है
    प्रगतिशील सरकार की पहचान !

    ReplyDelete
  78. आदरणीय राकेश जी आजकल आपके आलेख बहुत दिनों में आते हैं ऐसा क्यों? श्रंखला का अगला अंक प्रस्तुत कीजिये. धन्यबाद.

    ReplyDelete
  79. नए पोस्ट पर इंतजार रहेगा...राकेश जी

    ReplyDelete
  80. Hunuman ji ki bhakti mujhe bachpan se prerit karti hai, use phir se yaad dilaane ke dhanywaad, sir! Mera naam bhi unki maata ji jaisa hai :-) :-)

    ReplyDelete
  81. बहुत ही खुशी हुई अंजना जी आपको यहाँ देखकर.

    गहन अर्थ संजोये है आपका नाम.
    आपका नाम सच में पवित्र और पूजनीय है.

    ReplyDelete
  82. bahut din ho gaye mere naye post aapke intjaar me....

    ReplyDelete
  83. बहुत दिनों से मेरे पोस्ट पर नही आए इन्तजार है,,,,,

    MY RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: विचार,,,,

    ReplyDelete
  84. Stutya kaarya kar rahe hain..
    bahut Sunder blog hai..
    badhai...

    ReplyDelete
  85. air
    shri hanumaan ji ki bhakti ke bare me me padh kar aur jyaada jaankaari prapt hoti hai aapke blog par aakar .aap ki lekhni yun hi nirantar chalti rahe aur ham sabhi iska labh uthyen----
    bahut bahut badhiya v bhakti -may post
    hardik naman
    poonam

    ReplyDelete
  86. बहुत अच्छी रोचक प्रस्तुति। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  87. बहुत बहुत आभार राकेश जी ....
    देह का अभिमान घोर और भयंकर सागर है.हम सब में जो थोड़ी थोड़ी साधना करने वाले हैं वे सब जानते हैं कि भरसक प्रयत्न करने के बाबजूद भी हम देहाभिमान के किनारे ही खड़े रह जाते हैं........
    भौतिक नश्वर शरीर का अभिमान भौतिक सांसारिक वस्तुओं के प्रति राग ही संसार में दुखों का कारण ओर मुक्ति मार्ग में बाधक है......
    आपको अत्यंत भक्ति भाव पूर्ण अध्यात्मिक आलेख के लिए साधुवाद !

    ReplyDelete
  88. मन को आनंदित करने वाला लेख।

    ReplyDelete
  89. भक्तिरस की बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  90. Very analytical post, got to understand a lot of things about the true meaning of Shri Hanuman and his bhakti.

    ReplyDelete
  91. बहुत सुन्दर विश्लेषण ...सच कहूँ तो इन दिनों मन को इसी प्रकार की सामग्री की आवश्यकता थी अब शायद वापस अपने कर्म की ओर उन्मुख हो सकूँ

    ReplyDelete
  92. बहुत बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  93. हनुमान लीला अदभुत रूप से कल्याणकारी है.
    जितना समझने का प्रयास करता हूँ,उतना कुछ
    और नया पाता हूँ.

    महावीर विक्रम बजरंगी
    कुमति निवार सुमति के संगी.

    ReplyDelete
  94. मन को भक्ति रस से आच्छादित करती रचना जो इस संसार सागर की तपिश को शांत करने एमं प्रभावी है, शुभकामनाएं.

    रामराम

    ReplyDelete
  95. mythology+ knowledge..
    this is what I always get from here :)

    a thought provoking read as always :)

    ReplyDelete
  96. राकेश जी,
    मेरे व्याख्यान का वीडियो आप इस लिंक पर देखें...
    http://amirrorofindianhistory.blogspot.in/

    ReplyDelete
  97. Very nice post.....
    Aabhar!
    Mere blog pr padhare.

    ReplyDelete