Followers

Saturday, May 21, 2011

रामजन्म - आध्यात्मिक चिंतन -४




यह मेरे लिए अति आनंद की बात है कि प्रिय सुधिजनों  ने  'रामजन्म -आध्यात्मिक चिंतन' पर
प्रकाशित मेरी पिछली तीनों पोस्टों  का अपनी आनंदपूर्ण टिप्पणियों से भरपूर स्वागत किया है.
देवेन्द्र भाई का कहना है कि 'संगम सरयू स्नान कर धवल व पवित्र हो जाता है. 
भाई अरविन्द मिश्रा जी कहते हैं कि 'अब सरयू भी सहज ध्यानाकर्षण की अधिकारणी हो
जाती है.'  हालाँकि मेरी  पिछली पोस्ट 'रामजन्म-आध्यात्मिक चिंतन -३' में सरयू  का निरूपण
आत्म-ज्ञान रुपी सरिता से किया  गया है, फिर भी रूचि और प्रसंग को देखते हुए इस पोस्ट में
हम 'सरयू' जी  पर विचार करने की और कोशिश करते हैं.

आईये,  मेरी  पिछली पोस्ट 'रामजन्म- आध्यात्मिक चिंतन-३'  में वर्णित  रामचरित्र मानस की
निम्न पंक्तियों का स्मरण करते हुए आगे बढते हैं

             "बंदउ  अवधपुरी  अति   पावनि,  सरजू  सरि  कलि   कलुष  नसावनि"

अवधपुरी की वंदना  ऐसी अति पवित्र पुरी के रूप में की गई है जहाँ 'सरयू' जैसी सरिता बह रही
है जो कलियुग की कलुषता का नाश करनेवाली है .रामचरितमानस में सरयू के बारे में यह भी
लिखा गया है कि

                       उत्तर दिसि सरजू बह निर्मल जल गंभीर
                       बाँधे  घाट मनोहर   स्वल्प  पंक  नहिं तीर

अर्थात अवधपुरी की उत्तर दिशा में सरयू बह रही हैं जिसका जल निर्मल और गहरा है.
मनोहर घाट बंधे हुए है, किनारे पर जरा भी कीचड़ नहीं है.

यह देखा गया है कि जब कोई नदी या सरिता जो  निरंतर प्रवाहित होती है, जिसका जल
शुद्ध ,  पेय  व कल्याणकारी होता है, जिसपर स्नान आदि करने के लिए सुन्दर घाट निर्मित
किये जा सकते हैं  व जिसके किनारे कीचड़ आदि से   मुक्त होते हैं  तो उस नदी  के
आस पास संपन्न नगर व पुरी भी बस जाते हैं.

अवधपुरी हृदय में स्थित  एक ऐसी ही संपन्न पुरी है जहाँ समस्त दैवीय संपदा जैसे 'अभय
यानि मृत्यु आदि समस्त भयों का अभाव, अंत:करण की निर्मलता,  उत्तम कर्मों का आचरण ,
क्रोध का सर्वथा अभाव, दया, अहिंसा आदि सद्गुणों का निरंतर विकास होता रहता  हैं. यह सब
विकास इसीलिए संभव होता है क्यूंकि अवधपुरी की उत्तर दिशा में 'आत्म ज्ञान' रुपी सरयू
नदी निरंतर बहती रहती है. उत्तर दिशा 'परिपक्वता'  का प्रतीक है. यानि 'आत्मज्ञान' केवल
कोरा  या थोथा नहीं  बल्कि  गहन अनुसंधान और अनुभव  पर आधारित है जिसमें स्वल्प भी
अज्ञान रुपी कीचड़ का लेश मात्र  नहीं है.

अपनी आत्मा का ज्ञान हमें भय मुक्त करने में सर्वथा समर्थ है. जब  मैं अपने शरीर को केवल
वस्त्र मानकर स्वयं को परमात्मा का अंश 'सत्-चित-आनंद' मानता हूँ जो नित्य,अजर,अमर
अवध,आनंदस्वरूप है  और निरंतर यही 'command'  अपने मस्तिष्क रूपी कंप्यूटर को देता रहता
हूँ, , तो मेरे हृदय में नकारात्मकता का शमन हो सकारात्मकता व आनंद का संचार होने
लगता है.जैसा कि भगवद्गीता (अध्याय २ श्लोक २२ ) में भी  निम्न प्रकार से वर्णित है

                              वासांसि जीर्णानि यथा विहाय
                              नवानि गृह्णाति नरोSपराणी
                              तथा शरीराणि विहाय जीर्णा-
                              न्यन्यानि संयाति नवानि देही
अर्थात जैसे हम  शरीर के पुराने वस्त्रों को त्यागकर दूसरे नए वस्त्रों को ग्रहण करते हैं,वैसे
ही हमारी आत्मा पुराने शरीर को त्यागकर दूसरे नए शरीर को प्राप्त होता है.

यह देह भी  हमेशा एकसा नहीं रहता.पहले बचपन, बचपन की मृत्यु हो जवानी , जवानी की 
मृत्यु हो बुढ़ापा,और फिर देह  ही अंततः मृत्यु को प्राप्त हो जाता है.
वास्तव में आत्मा के तीन शरीर हैं (१) स्थूल या  पंच भूत से निर्मित  भौतिक शरीर जिसकी
मृत्यु होती है और यही नाशको प्राप्त होता है (२) सूक्ष्म शरीर जो मन,बुद्धि,अहंकार से
निर्मित है (३) कारण शरीर जो सकाम  कर्मों के परिणाम स्वरुप संचित वासनाओं के रूप में
निर्मित  है.

स्थूल शरीर  के विनाश होने पर 'सूक्ष्म' और 'कारण' शरीर हमारी आत्मा के साथ ही  नवीन
स्थूल शरीर की प्राप्ति की  ओर अग्रसर हो जाते हैं ,जो हमारी संचित वासनाओं अर्थात
' कारण शरीर' के अनुरूप ही  मिला करता है.'तमोगुणी' वासनाओं  से निम्न योनि(कीट,पतंग,
पशु,पक्षी आदि) ,'रजोगुणी' वासनाओं से साधारण मनुष्य योनि और 'सतोगुणी' वासनाओं से
उच्च मनुष्य योनि(संत,महापुरुष आदि) जिसे देव योनि भी कहते हैं प्राप्त होती हैं.इन वासनाओं
का   सर्जन  और विसर्जन  हम अपने जीवन काल में अपने कर्म,भाव और विचारों के द्वारा
करते रहते हैं.जिस जिस प्रकार की वासनाएं अर्जित होती जातीं हैं,वैसा वैसा  ही  'कारण शरीर '
का  निर्माण भी  होता  जाता है. 'कारण शरीर ' के आधार पर ही फिर  'सूक्ष्म' शरीर  व 'स्थूल'
शरीर का निर्माण होता है . परन्तु, हमारा  मरण  कभी नहीं होता. जन्म से पहले  और मृत्यु के
पश्चात भी  हम आत्मा रूप में हमेशा विद्यमान रहते है.

यदि  अपने जीवन काल में ही मैं यह आत्मज्ञान   प्राप्त करलूँ कि न मैं स्थूल शरीर हूँ,
न ही सूक्ष्म और न ही कारण शरीर बल्कि ये मेरे केवल  वस्त्र मात्र हैं जिनको  मैं अपने
कर्म,विचार और भावों  के द्वारा बदलता रहता हूँ,  मेरा वास्तविक स्वरूप निर्गुण, निराकार ,
नित्य, अजर, अमर, 'सत्-चित आनंद है ' और यह आत्मज्ञान मेरे स्थूल शरीरान्त तक बना
रहे  तो  नवीन शरीर ग्रहण करते समय भी  मैं पिछला सब याद रख सकता हूँ व  आनंद में
रमण करते हुए अपना विकास निरंतर  ही करते रह सकता हूँ .निरंतर विकास का अर्थ यहाँ
निष्काम कर्मयोग के द्वारा प्रारब्ध या 'कारण शरीर' के क्षय करने से है .'कारण  शरीर' की वजह
से ही स्थूल शरीर के बंधन में बंधना पड़ता है. 'कारण शरीर' के पूर्णतया क्षय होने पर  स्थूल
शरीर की कोई आवश्यकता नहीं रह जाती है,जिसे जीव की मुक्ति माना जाता है.


परन्तु, आत्मज्ञान न होने की स्थिति में  हम खुद  को अज्ञानवश स्थूल शरीर ही  मान
लेते हैं इसीलिए हमारे  मस्तिष्क में जाने अनजाने यही 'command'  जाता रहता  है कि
स्थूल  शरीर के मरण के साथ ही हमारा भी मरण हो जायेगा. जिस कारण हम स्थूल  शरीर
की मृत्यु के समय मृत्यु भय से ग्रस्त हो अपनी तमाम याददाश्त को ही विस्मृत कर डालतें हैं
और जब नवीन शरीर ग्रहण करते हैं तो पिछला कुछ भी याद नहीं रहता. जबकि ऐसा बचपन
या जवानी की समाप्ति पर नहीं होता.  क्यूंकि बचपन और जवानी की मृत्यु हम सहज मानते हैं
और मस्तिष्क को यह 'command'  कभी नहीं देते कि हम मर गए हैं, इससे ह्मारी याददाश्त
बनी रहती है. ऐसे ही  सोते वक़्त भी  हम यह  कदापि महसूस नहीं करते कि सोने से हम मर
जायेंगें. इसलिये सोकर उठने पर याददाश्त बनी रहती है.  स्थूल शरीर की मृत्यु  के समय
केवल अज्ञान के कारण ही हम खुद के मरने का  गलत 'command'  दे बैठते हैं. फलस्वरूप
 'याददाश्त' का लोप हो  जाता है और सम्पूर्ण ज्ञान विस्मृत हो जाता है.

आत्मज्ञान के द्वारा  हम स्वयं के 'आनंद' स्वरुप का बोध कर पाते हैं .आनंद का  अक्षय
स्रोत अंत:करण में ही  निहित  है. आत्म बोध से  'कारण शरीर' का स्वाभाविक रूप से  क्षय होता है.
आत्मज्ञान रुपी विचार प्रवाह से  आनंद की तरंगें हृदय में उठने लगतीं हैं. जब यह प्रवाह
हृदय में अनवरत व नित्य  प्रकट होने  लगता है तो  दिव्य सरिता  का रूप धारण कर हृदय
की कलुषता  का निवारण करता रहता  है और हृदय को पवित्र पावन बना देता  है,जिससे हृदय
में उपरोक्त वर्णित अवधपुरी का भी  वास होने लगता है. यह आत्मज्ञान रुपी विचार प्रवाह की
दिव्य सरिता ही 'सरयू' नदी  है.

आत्मा  का   ज्ञान   वास्तव  में  एक आश्चर्य ही है. भगवद्गीता (अध्याय २ श्लोक २९) में
इसका निरूपण निम्न प्रकार से किया गया है.

                "कोई एक महापुरुष ही इस आत्मा  को आश्चर्य की भांति देखता है 
                  और  वैसे ही दूसरा कोई महापुरुष ही इसके तत्व का आश्चर्य  की भांति 
                  वर्णन करता है  तथा दूसरा कोई अधिकारी पुरुष ही इसे आश्चर्य की भांति 
                  सुनता है  और कोई  कोई तो सुनकर भी इसे नहीं जानता "

आश्चर्य इसलिये है कि आत्मा के  विलक्षण आनंद के अनुभव की किसी भी  अन्य आनंद से
तुलना ही नहीं की जा सकती. .आत्मज्ञान रूपी    'सरयू' के जल को  इसी वजह से अति गहन
और गंभीर बताया गया  है.

कहते हैं सरयू के जल में राम जी यानि 'सत्-चित आनंद ' ने 'जल समाधि' ली हुई है.
जिस कारण इसके जल का सेवन करने से 'चिर स्थाई आनंद' का अनोखा स्वाद भी
मिलता है और जीव सहज  शांति  को प्राप्त हो जाता  है. फिर चलिए, अब सोचना क्या है,
पवित्र पावन सरयू नदी  के घाट पर  नित्य स्नान, ध्यान और आचमन कर असीम आनंद
में गोते लगा लिए जाएँ. 

आत्मज्ञान के और अधिक अनुसंधान हेतू श्रीमद्भगवद्गीता के अध्याय-२ (सांख्य योग) का अध्ययन
किया जा सकता है.''साख्य योग" में आत्मज्ञान का समन्वय इस प्रकार से किया गया है जिससे
हम जीवन में निष्काम कर्मयोग प्रतिपादित करने में भी सक्षम हो सकें. इसीलिए भगवद्गीता में
सांख्य योग के पश्चात ही कर्मयोग का निरूपण अध्याय-३ में किया गया है.



राम जी ,दशरथ जी व कौसल्या जी का तत्व चिंतन मेरी पोस्ट 'रामजन्म- आध्यात्मिक चिंतन-१'
में किया गया है.
चारो युगों अर्थात सत् युग ,त्रेता ,द्वापर व कलियुग का तत्व चिंतन मेरी पोस्ट
'रामजन्म -आधात्मिक चिंतन -२'  में किया गया है. तथा
अवधपुरी/अयोध्यापुरी,उपवास का तत्व चिंतन मेरी पोस्ट 'रामजन्म -आध्यात्मिक चिंतन-३' में
किया गया है.
सुधिजन उपरोक्त पोस्टों  का भी अवलोकन कर अपने सुविचारों  की आनंद वृष्टि कर सकते हैं.

मेरा यह सादर अनुरोध है कि उपरोक्त पिछली  पोस्टों का बार बार अवलोकन किया जाये,
जिससे राम, दशरथ, कौसल्या, त्रेता युग, अवधपुरी की स्थापना 'सरयू' जी की कृपा से हमारे हृदय
में ही हो, और 'राम मंदिर'  के लिए हमें दर दर न भटकना पड़े. यदि हृदय में 'राम मंदिर'
का सही प्रकार से  निर्माण हो जाये तो भौतिक जगत में राम मंदिर कहीं भी हो, इसका कोई
फर्क पड़नेवाला नहीं है.कहतें है आस्था और विश्वास से जैसा अंतर्जगत में हो वैसा ब्राह्य
जगत में भी घटित हो जाता है.

सुधिजन इस विषय कि 'रामजन्म और राम मंदिर का क्या स्वरुप हो' पर विस्तार से
अपने अपने विचार प्रकट करें तभी  इन  पोस्टों की सार्थकता का भी अनुभव हो पायेगा.

ओम् सच्चिदानन्देश्वराय नमो नम:

                 







    

122 comments:

  1. राकेश जी,
    आपके सानिध्य के बाद हमें सरयू के तट पर जाने की क्या आवश्यकता...

    जीने की विधि, ज्ञान, तप क्या नहीं मिलता हमें आपके विचारों के अथाह सागर में गोता लगाने के बाद...बस इसी तरह हमारे अंतर्मन को आलोकित करते रहें, यही कामना है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  2. सुंदर लेख, जबरदस्त मेहनत,


    "कोई एक महापुरुष ही इस आत्मा को आश्चर्य की भांति देखता है
    और
    वैसे ही दूसरा कोई महापुरुष ही इसके तत्व का आश्चर्य की भांति
    वर्णन करता है
    तथा दूसरा कोई अधिकारी पुरुष ही इसे आश्चर्य की भांति सुनता है और
    कोई कोई तो सुनकर भी इसे नहीं जानता "



    वाह क्या शब्द है ये, अब बदले में कहने को भी शब्द नहीं मेरे पास,

    ReplyDelete
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (23-5-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर सार्थक आलेख। अक्सर सोते हुये कै बिन्दू दिमाग मे चलते रहते हैं और आपको पडःा कर कुछ समाधान भी मिलता है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  5. राकेश जी आपके पास बहुत सुंदर और नेक नजरिया है चीजों को देखने और उनके विश्लेषण का. एकदम अभूतपूर्व.

    ReplyDelete
  6. उत्तम व्याख्या...

    ReplyDelete
  7. आदरणीय राकेशजी,
    आत्म ज्ञान रूपि सरयू में गोता लगवाने के लिए आभार.
    प्रभु,मेरे लिए आज तो थोड़ा कठिन विषय हो गया.
    कारण शरीर,स्थूल शरीर,सूक्षम शरीर ,ये सभी राम मंदिर ही तो हैं.
    गुण ही राम नहीं,अवगुण भी राम ही हैं.
    काम राम,क्रोध राम,लोभ राम ,मोह राम,अहंकार राम.
    सब राम ही राम है तो फिर स्थूल क्या सूक्षम क्या.
    सब से बेहतर तो भाव शरीर है.मैं भक्त हूँ,यह भाव शरीर है.
    भाव शरीर में इष्ट की मुख्यता और अपनी गौणता होती है.
    जिस भी मार्ग पर चलें ,भाव शरीर से चलें और साध्य की तरफ चलते चलते साध्य में लीन हो जाएँ.

    ReplyDelete
  8. आदरणीय राकेश जी,
    आप जैसे ज्ञानी जन गुणी जन दुर्लभ हैं.मेरा सौभाग्य है जो आप से परिचय हुआ.
    जब महात्मा अर्जुन को साक्षात् प्रभु के सम्मुख होते हुए भी बार बार समझाने के लिए आग्रह करना पडा तो प्रभु ,हम तो तुच्छ प्राणी हैं,कुछ भूल हो जाए तो क्षमा कर दीजिएगा.
    जो सत्संग चिंतन की तरफ ले जाए वही सार्थक होता है.
    आपका सत्संग तो इस से भी आगे बढ़कर प्रभु के दर्शन करवा देता है.
    आभार के लिए शब्द नहीं हैं.
    बहुत मेहनत से आप ने विषय वस्तु का चयन किया है,और उतनी ही सुन्दर व्याख्या भी की है.
    अनुभव और ज्ञान का खजाना है आपके पास,बस यूं ही लुटाते रहिये.तृप्त करते रहिये.
    यही तो ज्ञान स्वरूपानंद है,बोध स्वरूपानंद है.
    बस आनंद ही आनंद.

    ReplyDelete
  9. शरीर का निर्माण होता है . परन्तु, हमारा मरण कभी नहीं होता. जन्म से पहले और मृत्यु के
    पश्चात भी हम आत्मा रूप में हमेशा विद्यमान रहते है.
    jeevan ko nai disha mil jaaye agar in saari baton ka hum anusaran kar paaye ,jeevan -saar hai is amrit dhara me ,padhte huye sudh hi nahi rahti aur kisi ki .geeta to main bhi padhti hoon .usme kahi baate wakai adbhut hai bada aanand aata hai padhne me .sundar bahut sundar vyaakhyaa

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर पोस्ट! आत्मज्ञान जैसा गूढ़ विषय भी आपने इस तरह सरल बना कर प्रस्तुत किया है कि प्रशंसा के लिये शब्द नहीं हैं, बधाई !

    ReplyDelete
  11. गुरूजी प्रणाम --"कहते हैं सरयू के जल में राम जी यानि 'सत्-चित आनंद ' ने 'जल समाधि' ली हुई है.
    जिस कारण इसके जल का सेवन करने से 'चिर स्थाई आनंद' का अनोखा स्वाद भी
    मिलता है और जीव सहज शांति को प्राप्त हो जाता है. " आज आपने सरयू की बिशेषता ..बड़े ही गहन और सार्थक रूप में समझा दिए है ! सोने पर सुहागा चढ़ते जा रहा है !

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छी व्याख्या

    ReplyDelete
  13. राम का अभिराम और चिन्तन का स्वर्ग।

    ReplyDelete
  14. यह पोस्ट पढ़ कर कई नई जानकारी मिली सरयू के तीर जाने की आकांक्षा बलवती होने लगी है |मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आभार

    आशा

    ReplyDelete
  15. bahut hi gyaanverdhak lekh.dil main uthti hui kai baaton ka samaadhaan karataa huaa.bahut achcha laga aapke blog main aaker.thanks.

    ReplyDelete
  16. अति उत्तम व्याख्या ....
    बहुत ज्ञानवर्धक और शांतिप्रदायक भी ..

    ReplyDelete
  17. इन सारी बातों का अगर अनुसरण किया जाए तो जीवन को नई दिशा मिल सकती है| बहुत सुन्दर लेख|

    ReplyDelete
  18. सुंदर .....आपकी सभी पोस्ट शोधात्मक हैं...... राम चरित्र से जुड़े पावन विचारो को साझा करने हेतु आभार

    ReplyDelete
  19. अद्भुत....गजब की व्याख्या. बधाई..जारी रहें.

    ReplyDelete
  20. आत्मा का ज्ञान भय से मुक्त करने में सदैव समर्थ है ...
    सरयूजी के पवन जल के स्पर्श सी व्याख्या ...मुग्ध हुए !
    आभार !

    ReplyDelete
  21. यदि हृदय में 'राम मंदिर'
    का सही प्रकार से निर्माण हो जाये तो भौतिक जगत में राम मंदिर कहीं भी हो, इसका कोई
    फर्क पड़नेवाला नहीं है.कहतें है आस्था और विश्वास से जैसा अंतर्जगत में हो वैसा ब्राह्य
    जगत में भी घटित हो जाता है.Rakesh ji aapke is lekh se avadhpuri aur saryu nadi ke vishay me jaankari mili.bahut achcha likhte hain aap.ramcharitmanas ka avlokan bhi saath sath ho raha hai.aapka aabhar.

    ReplyDelete
  22. आत्मा के विलक्षण आनंद के अनुभव की किसी भी अन्य आनंद से
    तुलना ही नहीं की जा सकती. .आत्मज्ञान रूपी 'सरयू' के जल को इसी वजह से अति गहन
    और गंभीर बताया गया है... satya hai yah rakesh ji , is gyan bhare satya ke liye aapka shukriyaa

    ReplyDelete
  23. आदरणीय राकेश जी,

    बहुत सुंदर पोस्ट! आत्मज्ञान का विषय प्रस्तुत किया है ......
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आभार

    ReplyDelete
  24. बिल्‍कुल सही कहा है आपने ।

    ReplyDelete
  25. ज्ञानवर्धक और उत्‍तम प्रस्‍तुति ..आभार इसके लिये ।

    ReplyDelete
  26. मैं शरीर नहीं हूं, आत्मा हूं।
    आध्यात्मिक ज्ञान की सुंदर चर्चा।

    ReplyDelete
  27. आत्मज्ञान के द्वारा हम स्वयं के 'आनंद' स्वरुप का बोध कर पाते हैं .आनंद का अक्षय स्रोत अंत:करण में ही निहित है. आत्म बोध से 'कारण शरीर' का स्वाभाविक रूप से क्षय होता है.
    आत्मज्ञान रुपी विचार प्रवाह से आनंद की तरंगें हृदय में उठने लगतीं हैं. जब यह प्रवाह हृदय में अनवरत व नित्य प्रकट होने लगता है तो दिव्य सरिता का रूप धारण कर हृदय
    की कलुषता का निवारण करता रहता है और हृदय को पवित्र पावन बना देता है,जिससे हृदय में उपरोक्त वर्णित अवधपुरी का भी वास होने लगता है. यह आत्मज्ञान रुपी विचार प्रवाह की दिव्य सरिता ही 'सरयू' नदी है.

    आत्मज्ञान रुपी विचार प्रवाह की दिव्य सरिता से अवगत करने हेतु आपका आभार... आपका सत्संग अनुभव और ज्ञान का असीम भंडार है....बस बाँटते जाइये इसे...

    ReplyDelete
  28. आदरणीय राकेश जी,
    राम चरित्र से जुड़े पावन विचारो को साझा करने हेतु आभार
    आत्मज्ञान का विषय प्रस्तुत किया है

    ReplyDelete
  29. राकेश जी!
    आपने बहुत ही सारगर्भित आलेख प्रस्तुत किया है!
    वर्तमान परिपेक्ष्य में तो तो इसकी प्रासंगिकता और भी अधिक है!
    क्योंकि मर्यादाओं का हनन पग-पग पर नजर आता है!

    ReplyDelete
  30. प्रभु,आपने घर बैठे पवन-सरयू के स्नान लाभ करा दिए.इतना श्रम करके तो आप वास्तव में राम-काज कर रहे हैं!
    'दरस,परस,मज्जन अरु पाना....में आपके माध्यम से हमने पाने का पुण्य तो हासिल कर ही लिया है !

    ReplyDelete
  31. एक गहन अध्यात्मिक चिंतन..बार बार पढने को मजबूर करता है..आपकी पोस्ट केवल ज्ञान वर्धक ही नहीं, बल्कि पढने के बाद एक अद्भुत आत्मिक शान्ति का अनुभव होता है..बहुत सार्थक...आभार

    ReplyDelete
  32. aap ke likhe ko padh kar lagta hai jyan aur adhyatm ke sagar me dubte jate hain.
    aap ki lekhni ko naman karne ka man karta hai .
    saader
    rachana

    ReplyDelete
  33. आदरणीय राकेश जी,नमस्ते! आपने बहुत सुन्दर लिखा है
    यदि हृदय में 'राम मंदिर'का सही प्रकार से निर्माण हो जाये तो भौतिक जगत में राम मंदिर कहीं भी हो, इसका कोई फर्क पड़नेवाला नहीं है.
    मेरे ख्याल से इश्वर का सच्चा स्थान तो आपका हर्दय ही है ये पत्थर की बेजान मूर्तियाँ नहीं !
    आपने महर्षि दयानंद जी की बातो को अपनी लेखनी के द्वारा सार्थक ही किया है , इस राह मे मैं भी आपके साथ हूँ , आपके इन्ही विचारों की वजह से मे भी आपकी समर्थक बन गई हूं> कृपया यही सिलसिला आगे भी जारी रखिये . आपसे बहुत कुछ सिखाने को मिल रहा है ..
    यहाँ बच्चन जी का शेर याद आ रहा है ---मंदिर मस्जिद लड़वाते राह दिखाती मधुशाला

    ReplyDelete
  34. बहुत सुन्दर सार्थक लेख…………. धन्यवाद

    ReplyDelete
  35. राकेश जी राम जन जन के मन में बसे हैं उनकी इतनी गहन व्याख्या और इतना अद्भुत विशलेषण पढ़ कर बहुत अच्छा लगा ।

    ReplyDelete
  36. राकेशजी...
    पहले तो मैं क्षमाप्रार्थी हूँ कि आपके ब्लॉग पर नहीं पहुच पाई..इसे मैं अपना आलस्य ही कहूं तो शायद ठीक होगा...! और आज जब आई तो अफ़सोस ही हुआ कि मैं पहले क्यूँ नहीं पहुँची...!!
    मैंने आपकी रचनाएं पढीं...
    हर इंसान के अस्तित्व के कई स्तर होते हैं...
    और उनमें से एक महत्त्वपूर्ण स्तर की आवश्यकता की पूर्ति आपकी रचनाएं करती हैं..!!धर्मिकता के साथ-साथ आध्यात्मिक दर्शन से आपकी रचनाएं ओतप्रोत हैं......!!
    आपका आभार हम सभी का मार्गदर्शन करने के लिए...
    एक बार फिर से क्षमाप्रार्थी हूँ.....!!

    ReplyDelete
  37. bahut khoobsoorat likha hai aapne... itni shuddh bhasha ka uccharan pehli baar kisi blog mein dekha hai... padh ke bahut accha laga... aise hi likhte rahiye aur hamein prerit karte rahiye :)
    Anukriti Sharma

    ReplyDelete
  38. बहुत ही सुन्दर और शानदार रूप से व्याख्या किया है आपने! बहुत बढ़िया, महत्वपूर्ण और ज्ञानवर्धक पोस्ट रहा! आपकी लेखनी के बारे में जितनी भी तारीफ़ की जाए कम है! आपके हर एक पोस्ट से मुझे ज्ञान प्राप्त होता है! आपकी लेखनी को सलाम!

    ReplyDelete
  39. राकेश जी,

    आपका चिंतन हमेशा बार बार और समय निकालकर सुक्ष्मता से पढना होता है। तभी आनंद आता है। इसलिये प्रतिक्रिया में हमेशा देरी हो जाती है।
    साथ ही विवेचन इतना सम्पूर्ण होता है कि विशेष प्रतिक्रिया को अवसर ही नहीं मिलता।
    आपका अध्यन और चिंतन गहन है राकेश जी!! स्थितप्रज्ञ कर देता है।
    चकित हूँ………
    "अवधपुरी हृदय में स्थित एक ऐसी ही संपन्न पुरी है जहाँ समस्त दैवीय संपदा जैसे 'अभय
    यानि मृत्यु आदि समस्त भयों का अभाव, अंत:करण की निर्मलता, उत्तम कर्मों का आचरण ,
    क्रोध का सर्वथा अभाव, दया, अहिंसा आदि सद्गुणों का निरंतर विकास होता रहता हैं. यह सब
    विकास इसीलिए संभव होता है क्यूंकि अवधपुरी की उत्तर दिशा में 'आत्म ज्ञान' रुपी सरयू
    नदी निरंतर बहती रहती है. उत्तर दिशा 'परिपक्वता' का प्रतीक है"

    ReplyDelete
  40. जय श्री राम !
    खुश रहो ,भतीजे !
    राम,राम !

    ReplyDelete
  41. हम जब धर्म की बात करते हैं तो याद रखना चाहिये कि उसका आधार कर्मकांड नहीं बल्कि अध्यात्मिक ज्ञान है और भगवान श्री राम उसके एक आधार स्तंभ है। हम जब उनमें आस्था का दावा करते हुए वैचारिक रूप संकुचित होते हैं तब वास्तव में हम कहीं न कहीं अपने हृदय को ही धोखा देते हैं। मंदिरों में जाना कुछ लोगों को फालतू बात लगती है पर वहां जाकर अगर अपने अंदर शांति का अनुभव किया जाये तब इस बात का लगता है कि मन की मलिनता को निकालना भी आवश्यक है। अगर कोई व्यक्ति घर में ध्यान लगाने लगे तो उससे बहुत लाभ होता है पर निरंकार के प्रति अपना भाव एकदम लगाना आसान नहीं होता इसलिये ही मूर्तियों के माध्यम से यह काम किया जा सकता है। यही ध्यान अध्यात्मिक ज्ञान सुनने और समझने में सहायक होता है और तब जीवन के प्रति नज़रिया ही बदल जाता है। कहने का अभिप्राय यह है कि मंदिर और मूर्तियों का महत्व भी तब है जब उनसे अध्यात्मिक शांति मिले। सच बात तो यह है कि भगवान श्रीराम हमारे न केवल आराध्य देव हैं बल्कि अध्यात्मिक पुरुष भी हैं जिनका चरित्र मर्यादा के साथ जीवन जीना सिखाता है।
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com

    ReplyDelete
  42. . "बंदउ अवधपुरी अति पावनि, सरजू सरि कलि कलुष नसावनि"
    आदरणीय गुरु जी नमस्ते !
    व्यस्तता के कारण देर से आने के लिए माफ़ी चाहता हूँ.
    आप मेरे ब्लॉग पे पधारे इस के लिए बहुत बहुत धन्यवाद् और आशा करता हु आप मुझे इसी तरह प्रोत्साहित करते रहेगे !
    बहुत उपयोगी एंव ज्ञानवर्धन जानकारी दी है आपने, साथ ही बहुत ही सुन्दर तरीके से विश्लेषण भी किया है.
    वक्त रहते उपरोक्त बिंदुओं पर ध्यान दिया जाना चाहिए, मैं आपकी इसमें कही हुई सारी बातों से सहमत हुॅ।
    इतनी अच्छी जानकारी के लिए आभार आपका !

    ReplyDelete
  43. राकेशजी
    सरयू स्नान करवाया
    उत्तर में उत्तम दिखाया
    शास्त्र शरण लेकर
    पथ सीमापार दिखाया
    सर्वव्यापक की महिमा का
    मधुर रसपान कराया
    आपकी प्रेममय अभिव्यक्ति ने
    आस्था को दृढ करवाया
    और आनंद को बढ़ाया
    धन्यवाद, प्रणाम और रामजी की जय जयकार
    सादर, सस्नेह, बहुत बहुत आभार

    अशोक व्यास

    ReplyDelete
  44. वासांसि जीर्णानि यथा विहाय
    नवानि गृह्णाति नरोSपराणी
    तथा शरीराणि विहाय जीर्णा-
    न्यन्यानि संयाति नवानि देही

    गीता के दुसरे अध्याय में श्री कृष्ण अर्जुन को समझाते हुए कहते हैं कि जिस तरह से हम वस्त्रों को धारण करने के बाद पुराने होने पर उन्हें बदल देते हैं या त्याग देते हैं उसी तरह यह आत्मा भी जीर्ण शीर्ण शरीरों को त्याग कर नए शरीरों को धारण करती है ..!
    श्री कृष्ण कि यह बात हमें जीवन के प्रति मोह से उपर उठाती है और जीवन को सद्मार्ग पर ले जाने के लिए प्रेरित करती है ..क्योँकि इस धरती पर आकर मनुष्य माया में इस तरह से लिप्त हो जाता है कि वह अपनी वास्तविकता को भूल जाता है ...और शरीरों के बंधन में फंसा रहता है ....आत्मा परमात्मा का अंश होने के कारण कभी समाप्त नहीं होती ..लेकिन अगर मुक्ति को प्राप्त नहीं हुई तो शरीरों के बंधन में बंधी रहती है ..!

    ReplyDelete
  45. केवल भाई,
    आपकी टिपण्णी मेरे ब्लॉग पर आ गई है.परन्तु लगता है कुछ ब्लोगर जन की अभी भी नहीं आ पा रही है.

    ReplyDelete
  46. आत्मा की मुक्ति के लिए हमें इसके मूल से जुड़ना होगा जिसे हम परमात्मा कहते हैं ....आत्मा ना जाने कितने वर्षों से परमात्मा से बिछड़ी हुई है और यह तब तक उसमें विलीन नहीं हो सकती जब तक कि वह इस शरीर में रहते हुए उसे प्राप्त न कर ले ..जिसे हम 'सत्-चित आनंद ' कहते हैं वह यह परमात्मा ही तो है जिसे हम अपने से दूर समझ बैठे हैं ...और भ्रमों का शिकार हैं ....आदरणीय राकेश जी आपने बहुत गहनता से हर एक पक्ष पर प्रकाश डाला है ...आपका आभार इस गहन चिंतन को हम सबके साथ साँझा करने के लिए आशा है आप हमें इसी तरह से अपने चिंतन से अनुग्रहित करते रहेंगे ...आपका आभार

    ReplyDelete
  47. ----आनन्द ही आनन्द.....नेति...नेति....

    ReplyDelete
  48. राकेश जी ..... हृदय में ही राम मंदिर का निर्माण हो सके ... यदि ऐसा हो जाए तो संपूर्ण विश्व में राम राज्य आ जाएगा ...
    सरयू की इस रूप को नही जाना था आज तक .... आपके ब्लॉग पर आ कर जो ज्ञान प्राप्त होता है उसके बारे में बता नही सकता ... बस आनद ही ले सकता हूँ ... नये दृष्टिकोण से विषय को देखना और विज्ञानिक दृष्टि से उसका अवलोगान करना ... नतमस्तक हूँ आपके सामने ...

    ReplyDelete
  49. टिप्पणी देकर प्रोत्साहित करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!

    ReplyDelete
  50. हम तो आप जैसे महात्माओं में ही प्रभु दर्शन कर लेते हैं ! शुभकामनायें राकेश भाई !!

    ReplyDelete
  51. राकेश जी, सर्वप्रथम क्षमा चाहती हूँ देर से आने के लिए .आपने ससंदर्भ सही कहा है गहन अनुसंधान और अनुभव के निकष पर ही कारण शरीर वाया परमात्मा तक जाया जा सकता है .हमें सरयू रूपी दिव्य सरिता में हर क्षण स्नान कर असीम आनंद प्राप्त करना चाहिए .एक बार आनंद की झलक मिल जाती है तो हम उसको बार-बार पाने का उपक्रम करते हैं .यह क्रम यूँ ही चलता रहता है .जब-तक जन्म-मृत्यु से आत्मा मुक्त न हो जाए .आपका पोस्ट सहज रूप से हर एक बात को समझा जाती है. आपका आभार

    ReplyDelete
  52. यह देखा गया है कि जब कोई नदी या सरिता जो निरंतर प्रवाहित होती है, जिसका जल
    शुद्ध , पेय व कल्याणकारी होता है, जिसपर स्नान आदि करने के लिए सुन्दर घाट निर्मित
    किये जा सकते हैं व जिसके किनारे कीचड़ आदि से मुक्त होते हैं तो उस नदी के
    आस पास संपन्न नगर व पुरी भी बस जाते हैं.

    waakai, iske udaaharan kaafi hain....

    kaafi shodh ke pashchaat likha gaya aalekh...

    nissandeh "appreciation" deserve karta hai....

    ReplyDelete
  53. आत्मज्ञान न होने की स्थिति में हम खुद को अज्ञानवश स्थूल शरीर ही मान
    लेते हैं इसीलिए हमारे मस्तिष्क में जाने अनजाने यही 'command' जाता रहता है कि
    स्थूल शरीर के मरण के साथ ही हमारा भी मरण हो जायेगा. जिस कारण हम स्थूल शरीर
    की मृत्यु के समय मृत्यु भय से ग्रस्त हो अपनी तमाम याददाश्त को ही विस्मृत कर डालतें हैं
    और जब नवीन शरीर ग्रहण करते हैं तो पिछला कुछ भी याद नहीं रहता. जबकि ऐसा बचपन
    या जवानी की समाप्ति पर नहीं होता. क्यूंकि बचपन और जवानी की मृत्यु हम सहज मानते हैं
    और मस्तिष्क को यह 'command' कभी नहीं देते कि हम मर गए हैं, इससे ह्मारी याददाश्त
    बनी रहती है. ऐसे ही सोते वक़्त भी हम यह कदापि महसूस नहीं करते कि सोने से हम मर
    जायेंगें. इसलिये सोकर उठने पर याददाश्त बनी रहती है. स्थूल शरीर की मृत्यु के समय
    केवल अज्ञान के कारण ही हम खुद के मरने का गलत 'command' दे बैठते हैं. फलस्वरूप
    'याददाश्त' का लोप हो जाता है और सम्पूर्ण ज्ञान विस्मृत हो जाता है.


    yah bahut rochak laga.....

    ReplyDelete
  54. राकेश जी ,

    आज तो इस लेख को पढ़ कर मन पवित्र ही हो गया

    'राम मंदिर' के लिए हमें दर दर न भटकना पड़े. यदि हृदय में 'राम मंदिर' का सही प्रकार से निर्माण हो जाये.

    ऐसा होना सरल तो नहीं ..लेकिन प्रयास से क्या नहीं हो सकता ...सरयू की व्याख्या पढ़ आनंद आ गया ... आभार

    ReplyDelete
  55. .

    ददिहाल और ननिहाल फैजाबाद में होने के कारण, तथा पिताजी की पोस्टिंग स्टेट बैंक अयोध्या में होने के कारण मेरा बचपन , श्रीराम की जन्मस्थली के इर्द-गिर्द , माँ सीता की रसोईं , कनक-भवन , कौशल्या भवन तथा हनुमान-गढ़ी में खेलते-कूदते बीता। हनुमान गढ़ी की वानर सेना से , प्रसाद बचाकर निकलना एक रोचक तथा दुष्कर कार्य था। सरयू नदी के तट पर पानी की लहरों से अटखेलियाँ करते हुए , इस जीवन स्वर्णिम समय व्यतीत किया है।

    इसी विषय पर गतवर्ष एक पोस्ट लिखी थी । आज पुनः पढ़ी । आप भी निगाह डालियेगा। सरयू चर्चा , अयोध्या चर्चा और राम चर्चा है इस लेख में।

    ठुमक चलत रामचंद्र , बाजत पैजनिया --रामकोट-अयोध्या -- और मेरा बचपन !

    http://zealzen.blogspot.com/2010/09/blog-post_19.html

    regards,

    .

    ReplyDelete
  56. बहुत सुन्दर .... आपकी मेहनत के कारण हम इस आध्यत्मिक चिंतन का आनन्द उठा पा रहे है
    सादर

    ReplyDelete
  57. कहना रह गया था ..श्री राम के जीवन चरित्र सुनाने वाले तो केवल किताबी ज्ञान रखते हैं पर भक्ति का आभाव होने के कारण जनमानस पर प्रभाव नहीं डालता है .पर आपको पढ़कर ऐसा लगता है कि मन उसी आनंद के सागर में उतरता जा रहा है ..आपका बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete
  58. आपके इस लेख ने पवित्र कर दिया जैसे.............इतनी सुंदर व्याख्या अब तो लगता है बस आप हर दिन कुछ लिखे और हमे सारा ज्ञान आपसे ही मिल जायेगा.......आपका धन्यवाद् इतनी सुंदर व्याख्यानों के लिए

    ReplyDelete
  59. आपको हमारा सादर प्रणाम , आपने तो इतनी खूबसूरती से सरयू नदी का चित्रण दिया की भीतर से जन्म और मृत्यु का भय ही खत्म होने लगा बहुत खुबसूरत वर्णन | और ये कहना की ...........यह आत्मज्ञान रुपी विचार प्रवाह की दिव्य सरिता ही 'सरयू' नदी है.| मैं इस बात से पूरी तरह सहमत हूँ | और ये बात भी खुबसूरत लगी ............
    ."कोई एक महापुरुष ही इस आत्मा को आश्चर्य की भांति देखता है
    और वैसे ही दूसरा कोई महापुरुष ही इसके तत्व का आश्चर्य की भांति
    वर्णन करता है तथा दूसरा कोई अधिकारी पुरुष ही इसे आश्चर्य की भांति
    सुनता है और कोई कोई तो सुनकर भी इसे नहीं जानता "
    बहुत सुन्दर वर्णन इस सुन्दर वर्णन के लिए आपका बहुत - बहुत शुक्रिया |

    ReplyDelete
  60. muje apne 10 classs ke din yaad a gaye jab teacher saru nadi ka itna sundr varnan kiya karte the

    ReplyDelete
  61. aapke gyan saagar mein hum sabko bhi dubki lagane ka mauka dene ke liye dhanyawaad... sachmuch apki post se bahut kuch seekhne ko milta hai... saadar!

    ReplyDelete
  62. aadarniy sir
    net ki gadbadi ki vajah se char -panch dino se kahin koi comments bhi nahi dal paa rahi thi .ab ye ram ji ki mahima hi kahiye ki aaj soubhagy se sabke blog kulte chle ja rahe hain.lekin pata nahi kitni der.
    sir aapka ye shodhniy kary to bahut hi vilaxhan hai .aaj blog khulne se aapke post par aa paai varna itni behtreen v vykhyatmak post ko padhne se vanchit rah jaati.
    saryu nadi ka to puratan kal se himahima ka varnan chala aaraha hai.par jo vistrit roop aur vykhya aapke blog par padhi tab iske mahtv ko samajh paai hun .suna v thodi bahut jankaari thi .par itna dhyan kabhi bhi nahi gaya iska pura ka pura shrey aapko jaata hai .aap sach me bahut bahut hi badhai ke patra hai aur ham usse bhi badh kar bhagy shali jo aapke jariye hi adhbhut v vilaxhan jankaari padhne ke liye mili .
    sir, ye to mera bhi manana hai ki jab dil me har wakt ishwar vaas karte ho aur jubaan pe har waqt hi prabhu ka naam ho to mandir jaane ki kya aawasykata hai .yah jarur hai ki mandir jaane se wahan ka bhakti-purn mahoul v bhajan kirtan man ko baandh leta hai.aur bahut hi aanandmay -vatavaran hota hai .
    par jab ham apne ko hi "aham brhmasmi" mante hain arthat mere andar hi prabhu ka niwas hai to man hi mandir hai.

    आश्चर्य इसलिये है कि आत्मा के विलक्षण आनंद के अनुभव की किसी भी अन्य आनंद से
    तुलना ही नहीं की जा सकती. .आत्मज्ञान रूपी 'सरयू' के जल को इसी वजह से अति गहन
    और गंभीर बताया गया है.
    aapki post ki in panktiyon se yatharth hi parilaxhit hota hai. bahut bahut sateek vishhleshhan kiya hai aapne .
    jitni baar bhi aapko naman karun ,vo kam hi lagega.
    bahut bahut hardik abhinandan
    v-sadar naman ke saath
    poonam

    ReplyDelete
  63. बहुत सुंदर, आपका बहुत - बहुत शुक्रिया |
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  64. अच्छी व्याख्या करते हैं आप पढने से कुछ शंकाओं के समाधान के साथ नई जानकारियां भी मिलती है।

    ReplyDelete
  65. राकेश जी, सरयू जी और राम जी पर रामायण और भगवद्गीता के आधार पर बहुत सुन्दर विचार प्रस्तुति के लिए धन्यवाद्!

    आप इंजिनियर होने के अतिरिक्त अंग्रेजों द्वारा रचित कानून के ज्ञाता भी हैं, और ब्रिटिश राज्य में मान्यता थी कि सूर्यास्त ही नहीं होता था, इस कारण आपका राम जी से (सतयुग के अंत में सूर्य के प्रतिरूप ब्रह्मा, त्रेता में धनुर्धर राम, द्वापर में धनुर्धर अर्जुन) और पृथ्वी (सतयुग के अंत में पृथ्वी के प्रतिरूप शिव, त्रेता में लक्षमण, द्वापर में युधिस्टर) पर उबलब्ध शक्ति के मूल स्रोत सूर्य, अथवा सौर-मंडल से प्रेरित होना शायद स्वभाविक ही है...

    यद्यपि शब्दों में वर्णन कठिन है, संक्षिप्त में कहूं तो जो 'मैंने' विभिन्न कहानियों आदि के माध्यम से समझा है, काल के सतयुग से कलियुग की ओर प्राण-दायक नदी जल समान बहाव के कारण, मानव जीवन के 'सत्य' की खोज में - आधुनिक वैज्ञानिकों समान ही किन्तु उनसे अधिक ज्ञानी - अनुसंधान करने वाले प्राचीन वैज्ञानिकों, खगोल शास्त्री व् सिद्ध पुरुषों, योगियों, के माध्यम से प्रत्येक साकार की रचना में 'पंचतत्व' को आवश्यक जाना गया,,,

    और मानव शरीर की संरचना में शून्य काल और स्थान से सम्बंधित नादबिन्दू विष्णु यानि अजन्मी और अनंत शक्ति रूप 'परमात्मा' के एक अंश 'आत्मा' का योग भी तपस्या, साधना, कर योगियों ने शरीर में बंटा हुआ पाया,,, यानि हिन्दू मान्यतानुसार स्थूल अस्थायी शरीर को सौर-मंडल के नौ सदस्यों, 'नवग्रह', के सार से बना जाना गया, और उनमें हरेक में भंडारित शक्ति और सूचना को शरीर में मेरुदंड के साथ, मूल से सर तक, आठ स्थानों पर दर्शाया जाता आया है, हरेक ग्रह आठ में से एक दिशा का राजा अथवा दिग्गज जाना गया,,, और वे सब, नौवें ग्रह, शनि के सार से बने नर्वस सिस्टम द्वारा जुड़े, जिन्हें मुख्य रूप से नदी के स्थान पर नाड़ी कह पुकारा गया (कृष्ण की) यमुना, मध्य में (राम की) गंगा, और ब्रह्मपुत्र के प्रतिरूप,,,

    इसके अतिरिक्त, सूर्य और पृथ्वी, जो आरंभ में एक अग्नि के गोले मात्र थे, यानि क्रमशः 'ब्रह्मा' और 'शिव' के उत्पत्ति के पश्चात सर्वश्रेष्ठ अमृत रूप, जबकि शेष नाग पर लेटे 'विष्णु' कहा गया पृथ्वी के केंद्र में केन्द्रित शक्ति को, जो सौर-मंडल के सदस्यों के अंतरिक्ष के शून्य में, हमारी गैलेक्सी के भीतर, साढ़े चार अरब वर्ष से भी अधिक काल से साकार रूप में उपस्थित है,,, और जो उनकी चाल के द्वारा जनित काल की गणना पर आधारित सतयुग से कलियुग के चक्र को माया के कारण दर्शाते जाने गए, यद्यपि वास्तविक काल सदैव शून्य ही है :)...

    ReplyDelete
  66. everything is god everywhere is god
    then how come this physical body is not god

    ReplyDelete
  67. Since, physical body is subjected to natural decay and change, and one day we have to depart from it,the attachment with physical body would surely give rise to disappointment and sorrow.As per our Holy Books(Shastras) God is defined as'sat-chit-anand' means 'absolute happiness' not depending on time,place or situation etc.So the attachment with the physical body treating it to be 'absolute happiness'may not help us to realize 'absolute happiness' because of the changes in physical body and death of it.If we treat body as a'means' only to achieve and realize 'absolute happiness', that would be a better assumption.

    ReplyDelete
  68. उत्तर दिसि सरजू बह निर्मल जल गंभीर बाँधे घाट मनोहर स्वल्प पंक नहिं तीर

    बहुत ही सुन्दर एवं सार्थक लेखन .

    ReplyDelete
  69. "कोई एक महापुरुष ही इस आत्मा को आश्चर्य की भांति देखता है
    और वैसे ही दूसरा कोई महापुरुष ही इसके तत्व का आश्चर्य की भांति
    वर्णन करता है तथा दूसरा कोई अधिकारी पुरुष ही इसे आश्चर्य की भांति
    सुनता है और कोई कोई तो सुनकर भी इसे नहीं जानता "

    What Beautiful Lines...Yet Another Well Written Post...
    I Must say Rakesh Sir you should write a book on "आध्यात्मिक चिंतन"

    ReplyDelete
  70. ऐसी आध्यत्मिक पोस्ट मन को शांति पहुंचाती है.

    ReplyDelete
  71. पहले पहले गलती से लेट आता था आप ब्लॉग पर अब जानबूझ कर लेट आता हूँ...
    एक तो आप के ब्लॉग पर बहती हुए सरयू की पवित्र धारा में स्नान का अवसर..राम के गूढ़ ज्ञान का दर्शन..
    दूसरे इस पोस्ट पर ज्ञानी जनों की टिप्पड़ियां बोनस में मिल जाती हैं पढने को....
    बाकि आप की पोस्ट का क्या विश्लेषण करू..ज्ञान की अविरत बहती भागीरथी...

    ReplyDelete
  72. सरयू स्नान करने के लिए हम भी लालायित रहते हैं. आध्यात्म ऐसा ही विषय है जिसमें जितना भी ज्ञान मिले काम ही है. आपके ब्लॉग पर आत रहती हूँ लेकिन फिर भी जितना जानने को मिलता है उससे और जानने की उत्कंठा बढती जाती है. आपके इस विषद ज्ञान गंगा में डुबकी लगवाने के लिए बहुत बहुतधन्यवाद.

    ReplyDelete
  73. आदरणीय राकेश जी ,

    सर्व प्रथम तो विलम्ब से आने के लिए खेद .....

    आया तो गहन अध्यात्मिक चिंतन से परिपूर्ण लेख पढ़कर ह्रदय आनंद से भर गया |

    'सरयू ' का महात्म्य ....प्रभु राम ने स्वयं कहा ....'अवध पुरी मम पुरी सुहावनि |

    उत्तर दिशि सरयू बह पावनि |

    जा मज्जन ते बिनहिं प्रयासा |

    मम समीप नर पावहिं वासा |

    राष्ट्र कवि मैथिलि शरण गुप्त ने लिखा ........'किन्तु सुर सरिता कहाँ ? सरयू कहाँ ?'

    गुप्त जी ने लिखा की गंगा जी मरणोपरांत भव पार कराती हैं किन्तु सरयू तो जीवितों को तारती हैं |

    ReplyDelete
  74. It was a treat for me to read all of your posts.
    Although I have seen Ramayana but I never thought about it, or read about it in this much detail.

    I'd love to get more insight of Ramayana like this in next posts !!!!

    ReplyDelete
  75. यदि हृदय में राम मंदिर की स्थापना हो जाए फिर भौतिक जगत में राम मंदिर कहीं भी हो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता .सवाल किया भी आपने है और ज़वाब भी दे दिया है .
    जाकी रही भावना जैसी ,प्रभु मूरत देखी तिन तैसी .और यह भी" होई है वही जो राम रची राखा ..."असली मुद्दा सरयू हो या ताप्ति नदियों के प्रवाह से जुड़ा है .नदियों की धमनियां तो कचरे से अवरुद्ध हैं .

    ReplyDelete
  76. Rakesh kumar ji......

    Namaskaar!

    Congrats again on writing such a wonderful post.
    I liked it very much.

    ReplyDelete
  77. prya rakesh sahab ,
    sadar pranam ,

    pahle mafi ,fir ardas , wastav men apka adhyatmik chintan,sare prvagrhon ko tyag kar madhur jivan ko sadbhavana talas karne ka path deta hai, jo mujhe sarv priy hai . badhayi .

    ReplyDelete
  78. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  79. बहुत सुन्दर .... आपकी मेहनत के कारण हम इस आध्यत्मिक चिंतन का आनन्द उठा पा रहे है !मेरे ब्लॉग पर जरुर आए ! आपका दिन शुब हो !
    Download Free Music + Lyrics - BollyWood Blaast
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete
  80. राकेश जी.............आपका सरयू में स्नान का निमंत्रण मैंने स्वीकार किया था........आज वक्त निकाल कर ज्ञान रूपी इस सरयू में जो डुबकी लगाईं तो अब इस से निकलने का मन ही नहीं हो रहा है..........बहुत अच्छा,सारगर्भित,आध्यात्मिकता से ओत-प्रोत लेख..........आपको बधाई !

    ReplyDelete
  81. वाह जी आप ने तो भगवान राम के दर्शन ही करवा दिये अपने इस लेख मे, बहुत सुंदर, धन्यवाद

    ReplyDelete
  82. ज्ञानवर्धक आध्यात्मिक लेख.. धन्यवाद

    ReplyDelete
  83. आदरणीय श्रीराकेशजी,

    आपका ब्लॉग और आपका चिंतन समाज उपकारक है। आपका बहुत धन्यवाद।

    ओम् सच्चिदानन्देश्वराय नमो नम॥

    मार्कण्ड दवे।

    ReplyDelete
  84. ओम् सच्चिदानन्देश्वराय नमो नम:

    Rakesh ji!! aapka aabhaar aisa chjintan aur ye vichar sach aaraam se baith kar samjhne yogy hai... Gyanvardhak..

    ReplyDelete
  85. आदरणीय राकेशजी,
    आपके ब्लॉग पर टिप्पणी हमेशा देर से करता हूँ, लेकिन इसका अर्थ यह मत निकालियेगा कि पढ़ने भी देर से आता हूँ। कई कई बार पढ़ते हैं हम आपकी पोस्ट। विषय गहन, गंभीर और हम चंचल, उच्छृंखल। बार बार पढ़ने से बार बार आनंद भी मिलता है और कुछ सदविचार रिसकर अंतस तक भी पहुँचते हैं। कभी न कभी कुछ पा सकेंगे, यह आशा भी है और विश्वास भी। दैहिक, जैविक, भौतिक ताप के बीच इस सरयू-स्नान ने आत्मा प्रसन्न कर दी। हृदय से आभार मान रहा हूँ।

    ReplyDelete
  86. प्रातकाल सरजू कर मज्जन बैठहिं सभा संग द्विज सज्जन
    आपकी पोस्ट और टिप्पणियों से कुछ ऐसा ही भाव उमड़ आया है

    ReplyDelete
  87. ज्ञानवर्धक आध्यात्मिक लेख.. धन्यवाद

    ReplyDelete
  88. जय राम जी की!

    @... और कोई कोई तो सुनकर भी इसे नहीं जानता

    फिलहाल तो अपन शायद इसी श्रेणी में हैं। सुनते रहेंगे तो शायद कुछ बदले। आपका आभार!

    ReplyDelete
  89. सरयू तट पर तो हम भी घूम चुके हैं , डुबकी भी मार चुके हैं और अयोध्या भी देख चुके हैं । आज आपकी आंखों से देखना और महसूसना भी गजब का आनंद दे गया । बहुत ही श्रम से लिखा गया आलेख राकेश भाई । आपके ब्लॉग पर हिंदी ब्लॉगजगत गर्व करके इतरा सकता है , शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  90. aadarniy sir main to aapke blog par kuchh addhbhut pdhane v pane ke liye aai thi.

    सुधिजन इस विषय कि 'रामजन्म और राम मंदिर का क्या स्वरुप हो' पर विस्तार से
    अपने अपने विचार प्रकट करें तभी इन पोस्टों की सार्थकता का भी अनुभव हो पायेगा.

    ओम् सच्चिदानन्देश्वराय नमो नम: han! aapne bilkul sahi likha hai ki hame bhi is asdbhut gyan ki mahima ki varshha karne blog ke liye apne vichar v sahyog jarur prastut karne cahiye.
    par sir ,main aapke samane to bilkul hi nagany hun par fir bhi koshish karungi v apne blog mitron se bhi svinamra anurodh kar na chahungi ki vo bhi apna thoda sa bahumulay samay is bolg ki se seva me jarur sarpit karen
    shesh aswasthta ke douraan bhi dimag ke gode doudaungi ki main bhi is pawan v vilaxhan blog ke liye thoda bhi bhaut soch v likh paungi to jarur aisa karungi -----sheh sai nath ke haath
    sadar abhinandansahit
    poonam
    hoihein joi ram rachi rakha-------

    ReplyDelete
  91. आदरणीय राकेश जी .....
    राम... राम!

    आपके ब्लॉग पर आकर मन राममय हो गया है. मैंने ये लेख ध्यान से पढ़ा है.पढ़ने के बाद जो ख़ुशी और संतुष्टि महसूस हो रही उसे शब्दों में कहना बहुत ही मुश्किल है.सरल शब्दों के इस लेख को पढ़कर लग रहा है कि अब सरयू जाने की क्या आवश्यकता! एक बेहद उम्दा, जरूरी और सार्थक लेख के लिए आपको बधाई और आभार!

    ReplyDelete
  92. राम के जीवन को केंद्र में रख कर आप जिस तरह आध्यात्मिक प्रेरणा दे रहे हैं उस से हमारा ज्ञान वर्धन हो रहा है.. पौराणिक ज्ञान और चिंतन परंपरा से आप परिचय करा कर बहुत पुनीत कार्य कर रहे हैं वरना हमारी पीढी को कहाँ इतना ज्ञान.... सरयू नदी तो प्रतीक है ... संस्कृति का... और जिस तट पर राम पले बढ़ें हों तो उस नदी की संस्कृति महत्ता और अधिक हो जाती है..बहुत सुन्दर आलेख... देर से आपके ब्लॉग पर आने का लाभ यह होता है कि ज्ञान वर्धक टिप्पणियाँ पढने को मिलती हैं तो आलेख और स्पष्ट हो जाता है.. सादर

    ReplyDelete
  93. इस शोधपूर्ण आलेख से बहुत कुछ जानने को मिला।

    ReplyDelete
  94. बहुत सुन्दर आलेख धन्यवाद

    ReplyDelete
  95. सौवा कमेन्ट .. इंतजारी है नयी पोस्ट की ..सादर

    ReplyDelete
  96. आदरणीय गुरु जी नमस्ते |
    आपको पढ़कर ऐसा लगता है कि मन आनंद के सागर में उतरता जा रहा है |
    इस ज्ञान वर्धक पोस्ट पर कमेंट्स के शतक पूरी होने के लिए बधाई........

    ReplyDelete
  97. उत्तम आलेख....


    यह लेखन रुका क्यूँ है....लिखिये भाई नया...शुभकामना.

    ReplyDelete
  98. आदरणीय गुरु जी नमस्ते | आपका योरप का टूर कैसा रहा रहा वहाँ की स्थिति के बारे में लिखिए !

    ReplyDelete
  99. अब यूरोप के कुछ किस्से और यात्रा वृतांत का इन्तजार रहेगा.

    ReplyDelete
  100. आदरणीय राकेश जी,
    प्रभु का शुक्र है कि आप वापिस लौट आये,महफ़िल सूनी सी लग रही थी,राम जी के दर्शन भी नहीं हो रहे थे.
    अब आप आ गए हो तो बहारें भी आ ही जायेंगी.
    welcome back.

    ReplyDelete
  101. क्षमा माँगकर मुझे शर्मिंदा मत कीजिये! आप तो नियमित रूप से मेरे ब्लॉग पर आकर टिप्पणी देकर मेरा उत्साह बढ़ाते हैं! मैं समझ सकती हूँ की आप काम में व्यस्त हो गए थे! आपका यूरोप टूर कैसा रहा?
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  102. आप मेरे शिष्य नहीं बल्कि मैं आपका शिष्य बन जाऊं तो मेरे लिए ये सौभाग्य की बात होगी! आप जैसे महान लेखक से कुछ सिखने को मिले उससे बड़ी बात और क्या हो सकती है!

    ReplyDelete
  103. बहुत सी नई जानकारियां मिलीं। मैं पहली बार आपके ब्लाग पर आया हू, मुझे अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  104. नियमित रूप से मेरे ब्लॉग पर आकर उत्साहवर्धक टिप्पणी देने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    आपका यूरोप टूर तो बढ़िया रहा! कौन सा जगह आपको सबसे पसंद आया? स्वित्ज़रलैंड या वैटिकन सिटी?
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  105. "कोई एक महापुरुष ही इस आत्मा को आश्चर्य की भांति देखता है
    और वैसे ही दूसरा कोई महापुरुष ही इसके तत्व का आश्चर्य की भांति
    वर्णन करता है तथा दूसरा कोई अधिकारी पुरुष ही इसे आश्चर्य की भांति
    सुनता है और कोई कोई तो सुनकर भी इसे नहीं जानता "

    अनमोल वचन हैं ......
    इस पोस्ट पर कुछ कहने के लिए शब्द नहीं मिल रहे हैं .. मन आनन्दित हो गया
    एक अनुरोध :
    कृपया इस पोस्ट में आपने जिन पुरानी पोस्ट्स का उल्लेख किया है उन्हें हाइपर लिंक बना दें ताकि वहां पहुँचने में पाठकों को सुविधा हो और वो भी इन बेहतरीन पोस्ट्स का आनंद और आसानी से ले सकें

    ReplyDelete
  106. प्रभो कैसे हैं ?

    आइये कुछ आगे का कारबार चले ...

    ReplyDelete
  107. राकेश जी ...
    देरी के लिए क्षमाप्रार्थी हूँ ..पर पता नहीं आप यकीं करेंगे कि नहीं मैं आपकी इस पोस्ट पर कई बार आई एक बार टिप्पणी दी जिसके बाबत आपको सोचित भी किया था ..दुबारा आई तो अपनी उसी टिप्पणी के शब्दों को खोजती रही क्यूंकि वो टिप्पणी बहुत डूब के दी थी इस सरयू प्रवाह में ..लेकिन वो शब्द खो गए कहीं ..तो मन उदास हो गया .. :) ....और मैंने सोचा कि मैंने तो इस सरयू प्रवाह में मन निर्मल कर लिया..शब्द मिले न मिले क्या फर्क पड़ता है...:) :)

    अंतःकरण की सरयू का इतना सुन्दर विवेचन पढ़ कर मन प्रसन्न हुआ ...

    आत्मज्ञान के द्वारा हम स्वयं के 'आनंद' स्वरुप का बोध कर पाते हैं .आनंद का अक्षय
    स्रोत अंत:करण में ही निहित है. आत्म बोध से 'कारण शरीर' का स्वाभाविक रूप से क्षय होता है.
    आत्मज्ञान रुपी विचार प्रवाह से आनंद की तरंगें हृदय में उठने लगतीं हैं. जब यह प्रवाह
    हृदय में अनवरत व नित्य प्रकट होने लगता है तो दिव्य सरिता का रूप धारण कर हृदय
    की कलुषता का निवारण करता रहता है और हृदय को पवित्र पावन बना देता है,जिससे हृदय
    में उपरोक्त वर्णित अवधपुरी का भी वास होने लगता है. यह आत्मज्ञान रुपी विचार प्रवाह की
    दिव्य सरिता ही 'सरयू' नदी है.

    बहुत शुक्रिया और बधाई

    ReplyDelete
  108. आपने स्वित्ज़रलैंड का इतना सुन्दर वर्णन किया है ऐसा लगा जैसे मैं भी घूमकर आ गयी! मैं तो अभी तक यूरोप नहीं गयी हूँ पर एक न एक दिन ज़रूर जाउंगी ! वेटिकन के चर्च के क्या कहने! देखते हैं कब जाने का मौका मिलेगा!

    ReplyDelete
  109. बहुत सुन्दर सार्थक आलेख।

    ReplyDelete
  110. आपकी उत्साहवर्धक टिप्पणी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!

    ReplyDelete
  111. आप तो अध्यात्म की काफी गहराई में उतरे हुए हैं. आपके सारे पोस्ट्स को पढने के बाद विस्तार से टिप्पणी दूंगा. फिलहाल इतनी गहरी जानकारी ऑनलाइन उपलब्ध करने के लिए आभार प्रकट करता हूं.

    ReplyDelete
  112. "कोई एक महापुरुष ही इस आत्मा को आश्चर्य की भांति देखता है
    और वैसे ही दूसरा कोई महापुरुष ही इसके तत्व का आश्चर्य की भांति
    वर्णन करता है तथा दूसरा कोई अधिकारी पुरुष ही इसे आश्चर्य की भांति
    सुनता है और कोई कोई तो सुनकर भी इसे नहीं जानता "


    यह समस्त श्रंखला अत्यंत ही बारंबार पठन योग्य, ज्ञानोपयोगी और प्रेरक है. इसके लिये आपको बहुत बहुत धन्यवाद और शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  113. aadeniy rakesh ji...blog jagat ke is adbhut khajane mein sanchit anmol nidhi upyog karke log kritarth ho rahe hain..sarjoo ke ghat se to har saptah gujrana hota hai..kasturi mrig ki tarah khusbhoo apne paas thi per gyan nahi tha..ab sarjoo ke prati dristikon bhi badla aur jaankari bhi..अवधपुरी की स्थापना 'सरयू' जी की कृपा से हमारे हृदय
    में ही हो, और 'राम मंदिर' के लिए हमें दर दर न भटकना पड़े. यदि हृदय में 'राम मंदिर'
    का सही प्रकार से निर्माण हो जाये तो भौतिक जगत में राम मंदिर कहीं भी हो, इसका कोई
    फर्क पड़नेवाला नहीं ..aapki in panktiyon ne aadhytam per bistrit charcha ke sath hi..ek adbhut sandesh bhi hai..aap eun hi likhte rahein..sadar pranam ke sath..

    ReplyDelete
  114. Bahut hi sundar aalekh
    Saadhuwaad

    ReplyDelete
  115. शायद आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बुधवार के चर्चा मंच पर भी हो!
    सूचनार्थ

    ReplyDelete